रिश्तों की कदर

“रिश्ता वह गुलशन हैं, 

जिसकी वक्त पर हिफ़ाज़त न कि जाये, 

तो इसका इत्लाफ़ होना तय है।। “

About The Author(s)

Share Your Voice

2 Comments

Leave a Reply