आँसू है आँखों का गहना

~~~”आँसू है आँखों का गहना “~~~

आँखों के आंसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना,
जो समझे कोई कीमत आंसू की,
वहाँ जी भरकर बहने देना,
जो न समझे कोई कीमत आंसू की,
आंसू पीकर मुस्करा लेना,
पर, आंसुओं को अधरों तक न आने देना,
चाहे दर्द कितना भी सहना,
व्यर्थ में आंसू मत बहाना,
ये है, गम छिपाने का सलीका,
आंसू है, हर जख्म़ की अंक तालिका,
आँखों के आंसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

आरज़ू व हसरत के आंसू,
उम्मीद व शिकायत के आंसू,
रिश्तों की नज़ाकत के आंसू,
एक-दूजे की श़राकत के आंसू,
बेहिसाब ख्वाबों व ख्वाईंशों के आंसू,
जरूरतों की फरमाई़शों के आंसू,
चाहतों की आजमाइश पर आंसू,
प्यार की नुमाइश पर आंसू,
आँखों के आँसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

हर आंसू को बचाकर रखना,
वरना, धरा पर सैलाब उमड़ आएगा,
सम्पूर्ण सिंधु भी न समा पाएगा,
हर आंसू अंगारा बन जाएगा,
धरा पर धसा हर पत्थर पिघल जाएगा,
आंसू गिरने की न आवाज आएगी,
न आहट कोई सुन पाएगा,
गर, दर्द का हो अति-एहसास,
तो, निश्चलता से सह जाना,
आँखों के आँसुओं को पलको में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

वस्ल पर आंसू,
रुख्स़त पर आंसू,
बेताबियों में आंसू,
मुंतजिर में आंसू,
महफिल व तन्हाई में आंसू,
जन्म पर खुशी के आंसू,
इंतकाल पर मातम के आंसू,
जो न समझे कोई कीमत आंसू की,
आंसुओं को अधरों तक न आने देना,
आँखों के आँसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

भुखमरी में भोजन की आस में आंसू,
बेरोजगारी में रोजगार की तलाश में आंसू,
नौकरी मिलने पर खुशी के आंसू,
गलतियों का एहसास होने पर संताप के आंसू,
इम्तिहान में परिणाम के डर के आंसू,
भविष्य की ख़लिश के आंसू,
औरों की देख वेदना, निकलते है आंसू,
हमसे ज्यादा कोई खुश रहे, तो जलन के आंसू,
आँखों के आँसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

देश की उन्नति और शांति पर सुख के आंसू,
देश की सुरक्षा पर सुकून के आंसू,
जीते हुऐ युद्धवीर की आँखों में जुनून के आंसू,
अतिवृष्टि और अनावृष्टि में किसान की आँखों में आंसू,
खिल उठे चंहुओर हरियाली, तो धरती माँ की आँखों में प्रसन्नता के आंसू,
हर आंसू को बचाकर रखना,
आँखों के आँसुओं को पलकों में सजाकर रखना,
आंसू है आँखों का गहना।।

About The Author(s)

Share Your Voice

16 Comments

Leave a Reply