Love

जो गलती मैंने की उसे अपना समझ कर,
कैसे भूल जाऊँ उसे, एक दास्ताँ समझ कर,
गौर से ना देखो मुझे, मैं वो नामुराााद दिल हूँ,
जिसे उसने रौंद दिया, एक बेजुबां समझ कर।

About The Author(s)

Share Your Voice

Leave a Reply