Quarantine – self time

Quarantine – self time
जाने क्यों लोग बेचैन हैं ,
जाने क्यों लोग बेताब हैं,
लेकिन मुझे इस कमरे में मेरी पूरी दुनिया दिख रही है ।
मेरा “जर्रा- जर्रा” मुझसे मिल रहा है ।
मेरा मुझसे प्यार बढ़ रहा है ।
मेरा जर्जर था जो दिमाग उन टूटी इमारतों जैसा
वो अब ठीक हो रहा है ।
मेरा खँडहर बना दिल , अब साफ़ हो रहा है ।
मेरी टूटी हुई कश्ती को किनारा मिल रहा है
हाँ मुझे खुद से पहले से ज्यादा प्यार हो रहा है ।
#dontpanic #staypositive #selflove

@harleen_कौर

About The Author(s)

Share Your Voice

Leave a Reply