~~अदृश्य दुनियाँ~~

~~अदृश्य दुनियाँ~~

कुछ तू सुना, कुछ मैं सुनाऊ !
आ दोस्त, कुछ बात करते हैं !!
जहाँ अमन व मोहब्बत की बयार बहे,
वह दुनियाँ तलाश करते हैं !!
आ दोस्त, कुछ बात करते हैं !!

चल छोड़, कुछ दिन यह रंगीन जिंदगी,
किञ्चित सुकून तलाश करते हैं !
जहाँ कोई रंजोगम ना हो दिलों में,
वह दुनियाँ तलाश करते हैं !!
आ दोस्त, कुछ बात करते हैं!!

दौलत के ऐशो-आराम में जी लिए बहुत,
अब कुछ सच्ची शौहरत तलाश करते हैं !
जहाँ इंसान को इंसान से प्यार हो,
वह दुनियाँ तलाश करते हैं !!
आ दोस्त कुछ बात करते हैं!!

सुना है, बाहर भी एक दुनियाँ है,
जहाँ सब इक दूजे के लिए जीते हैं !
अब इन कल्पित कल्पनाओं से निकलकर,
वह दुनियाँ तलाश करते हैं !!
आ दोस्त कुछ बात करते हैं !!

सौहार्द्र करूणा ह्रदय में प्रस्फुटित करके,
निःस्वार्थ मोहब्बत का व्यवहार करते हैं !
ऐसा नैसर्गिक स्वर्ग निर्माण करने को,
वह दुनियाँ तलाश करते हैं !!
आ दोस्त कुछ बात करते हैं !!

About The Author(s)

Share Your Voice

2 Comments

  1. आ दोस्त कुछ बात करते हैं

    💕💕💕💕शानदार

Leave a Reply